स्टॉक ब्रोकर क्या होता है, स्टॉक ब्रोकर कितने प्रकार के होते हैं

जब भी हमको शेयर मार्केट मै निवेश करते है, तो हम सीधे स्टॉक एक्सचेंज (NSE, BSE) के पास जाके शेयर को खरीद और बेच नहीं सकते। इसके लिए हमको स्टॉक ब्रोकर की जरूरत पड़ती है। 

स्टॉक ब्रोकर हमको जो भी शेयर खरीदना और बेचना है, वो ऑर्डर स्टॉक एक्सचेंज (NSE, BSE) के पास लेके जाता है, और वहा से हमारे शेयर खरीदे और बेचे जाते है। 

तो हम नीचे स्टॉक ब्रोकर क्या होता है, स्टॉक ब्रोकर कितने प्रकार के होते हैं, स्टॉक ब्रोकर कैसे काम करता है। इसके बारे मै डीटेल मै जानकारी लेंगे। 

 स्टॉक ब्रोकर कितने प्रकार के होते हैं

स्टॉक ब्रोकर क्या है। (What is a Stock Broker in Hindi )

स्टॉक ब्रोकर ये एक ऐसी फर्म होती है, जो एक मिडियेटर के जैसा काम करता है। हम जब भी शेयर मार्केट मै स्टॉक को खरीदते है, तो सीधे स्टॉक एक्सचेंज (NSE, BSE) के पास जाके शेयर को खरीद नहीं सकते, इसके लिए हमको एक ब्रोकर की जरूरत पड़ती है। 

स्टॉक ब्रोकर ये के आदमी या फर्म हो सकती है, और उसे स्टॉक ब्रोकर के तहत काम करने के लिए सेबी से रजिस्ट्रेशन करना पड़ता है। उसके बाद ही वो हमारा ऑर्डर स्टॉक एक्सचेंज (NSE, BSE) के पास भेज सकता है। 

स्टॉक ब्रोकर हमे डिमेट और ट्रेडिंग अकाउंट दोनों देता है, वहा से हम शेयर को खरीद और बेच सकते है। 

स्टॉक ब्रोकर हमने जो भी ऑर्डर डाले है, ये ऑर्डर स्टॉक एक्स्चेंज (NSE, BSE) के पास लेके जाता है, और इसके बदले मै हमसे एक फी लेता है। 

स्टॉक ब्रोकर कैसे काम करता है। (How does a stock broker work Hindi)

स्टॉक ब्रोकर आपको एक डिमेट और ट्रेडिंग अकाउंट देता है। ट्रेडिंग अकाउंट से आप शेयर को खरीद और बेच सकते है, वही डिमेट अकाउंट मे आप खरीदे हुये शेयर को स्टोर किया जाता है। 

ट्रेडिंग अकाउंट से हमको जो शेयर खरीदना या बेचना है, ये रिक्वेस्ट ब्रोकर को देते है, ब्रोकर ये रिक्वेस्ट स्टॉक एक्सचेंज (NSE, BSE) के पास जाता है, और स्टॉक एक्सचेंज (NSE, BSE) हमारी रिक्वेस्ट एक्सेप्ट करता है। इस तरह से स्टॉक ब्रोकर काम करते है। 

स्टॉक ब्रोकर कितने प्रकार के होते हैं। (How many types of stock brokers)

स्टॉक ब्रोकर दो टाइप के रहते है, जिसका इस्थमाल हम किस तरह की ट्रेडिंग कर रहे है, उसी हिसाबसे हम स्टॉक ब्रोकर के पास जाके अकाउंट खुलवा सकते है। 

1. फुल टाइम सर्विस ब्रोकर

फुल टाइम सर्विस ब्रोकर आपको 24 अवर्स कस्टमर सपोर्ट प्रोवाइड करता है, इसमे वो आपको पोर्टफोलियो अपडेट, लीगल सलाह, टैक्स एडवाइस, मार्जिन की सुविधा, शेयरों से जुड़ी हुई रिसर्च या जानकारी भी उपलब्ध कराते हैं।

जो लोग ज्यादा ट्रेडिंग करते है, इनके लिए फुल टाइम सर्विस ब्रोकर एक अच्छा ऑप्शन होता है। मोतीलाल ओसवाल, Sharekhan, HDFC, SBI जैसे ब्रोकर फुल टाइम ब्रोकर के तहत काम करते है।

फूल टाइम ब्रोकर के सर्विस फी ज्यादा रहती है, इसिलिए जो लोग ज्यादा पैसे मै, और फुल टाइम ट्रेडिंग करते है, इनके लिए फूल टाइम ब्रोकर ये एक अच्छा ऑप्शन है। 

2. डिस्काउंट ब्रोकर

आपके शेयर को खरीदने और बेचने का काम खाली डिस्काउंट ब्रोकर करता है। पोर्टफोलियो अपडेट, मार्केट टिप्स, लीगल सलाह ये सब डिस्काउंट ब्रोकर आपको नहीं देते। 

फूल टाइम सर्विस ब्रोकर से डिस्काउंट ब्रोकर के सर्विस फी कम रहती है। Zerodha, Upstock, Groww, Angle One जैसे ब्रोकर डिस्काउंट ब्रोकर के तहत काम करते है।

डिस्काउंट ब्रोकर आपको स्टॉक के साथ म्यूचुअल फ़ंड, IPO, SIP, सोवेरण गोल्ड बॉन्ड इन सारे ऑप्शन मै निवेश करने की अनुमती देते है, और इसकी फी ज़ीरो या न के बराबर लेते है। 

About The Author

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top